अशोक अरोरा

कोई तो बताये … …. कि

नज़र से नज़र मिलायी जाती है क्यूँ
मिला कर फिर झुकायी जाती है क्यूँ
चुपके से फिर ये उठायी जाती है क्यूँ
उठा के फिर ये गिरायी जाती है क्यूँ
~अशोक अरोरा~

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *