शायरी|कवि प्रमोद

एक उम्र बसर हो गई लम्हों में हिज्र के
मौका ए वस्ल आया तो लमहे नही रहे.

कवि प्रमोद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *